Thursday, October 26, 2017

बहुत कुछ लिखने को बचा रह जाता है

सब कुछ लिख दिया जाने के बाद भी
बहुत कुछ लिखने को बचा रह जाता है।
हम बिस्कुट भिगो के चाय में खाते ही नहीं
इसीलिये वो नामुराद डूबने से बच जाता है।
ऊंची बात कहने वाले तो कोई होंगे यार,
अपन का तों रोजमर्रा की बातों से नाता है।
-कट्टा कानपुरी

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative